रविवार, 22 दिसंबर 2013

मराठा की वीरभूमि से उत्तराखण्ड की देवभूमि में कार्यरत एक देवदूत है दलीप जावलकर


मराठा की वीरभूमि से उत्तराखण्ड की देवभूमि में कार्यरत एक देवदूत है दलीप जावलकर
राजेन्द्र जोशी
देहरादून, 14 सितम्बर । केदारनाथ में 11 सितम्बर की पूजा को सफल मानने वाली प्रदेश सरकार भले ही अपनी पीठ क्यों न थपथपाए, लेकिन इस चुनौतीपूर्ण कार्य को करने वाला शख्स अभी भी पर्दे के पीछे है, जिसकी मेहनत और लगन से सरकार सुर्खियां बटोर रही है। बात आपदाकाल के दौरान की, की जाए तो आपदा के दौरान रूद्रप्रयाग जिले के जिलाधिकारी का कार्य देने के लिए प्रदेश सरकार ने तमाम प्रशासनिक अधिकारियों को इस चुनौती को लेने को कहा, लेकिन कोर्इ भी अधिकारी तैयार नहीं हुआ। अंतत: दलीप जावलकर ने इस चुनौती को स्वीकार करते हुए आपदाग्रस्त रूद्रप्रयाग जिले की ओर रूख किया। उस समय वहां की सिथति भयावह थी, हर तरफ हाहाकार मचा था, किसी में इतनी हिम्मत नहीं थी कि वह केदारनाथ में इसी साल पूजा कराने की सोच भी सकता हो। इसके अलावा आपदा के बाद राहत एवं बचाव कार्य सहित पुर्नवास एवं पुर्ननिर्माण का कार्य भी एक चुनौती बनकर सामने खड़ा है। इतना ही नहीं केदारनाथ के महाप्रलय में जान गंवाने वाले श्रद्धालुओं और स्थानीय लोगों के मृत्यु प्रमाण पत्र की चुनौती भी अब दलीप जावलकर को लेनी होगी।
    16-17 जून की भयावह महाप्रलय ने पूरे उत्तराखण्ड को ही नहीं, बलिक समूचे देश को हिलाकर रख दिया। इतना ही नहीं विदेशों तक में इस महाप्रलय की गूंज सुनार्इ दी। 16-17 जून की महाप्रलय के बाद रूद्रप्रयाग के तत्कालीन जिलाधिकारी विजय ढौंडि़याल एक प्रशासनिक अधिकारी होने के बावजूद वहां की सिथति देखकर सदमें में चले गए और उनके स्थान पर पंकज पाण्डे को जिलाधिकारी रूद्रप्रयाग का अस्थार्इ तौर पर जिम्मा सौंप दिया गया। उत्तराखण्ड शासन में इस दौरान उहापोह की सिथति थी कि आखिरकार रूद्रप्रयाग जिले में स्थायी जिलाधिकारी का दायित्व किसे दिया जाए। पांच दिन की कशमकश के बाद दलीप जावलकर ने इस चुनौती को स्वीकार करते हुए रूद्रप्रयाग जिले के जिलाधिकारी का दायित्व संभाला। प्रशासनिक अधिकारी होने के नाते कुछ लोग यह भी कह सकते हैं कि प्रशासनिक अधिकारी का यह दायित्व है, लेकिन आज की भोग विलासिता का जीवन छोड़कर आखिर प्रकृति के महाप्रलय से उजाड़ हो चुके, उस क्षेत्र में जहां हर ओर हाहाकार, विलाप और लाशों का अंबार पड़ा हो कौन जाना चाहेगा। दलीप जावलकर इस पूरे समयन्तराल में जहां प्रभावित पर्वतीय क्षेत्र के लोगों के लिए देवदूत बनकर उभरे हैं, वहीं असहाय हो चुकी उन मां-बहनों के लिए एक सहारा। मराठाओं की वीरभूमि से निकला यह सपूत उत्तराखण्ड की देवभूमि और वीरभूमि में निस्वार्थ सेवा में लगा है। कर्इ बार सोनप्रयाग व दूसरे पैदल रास्तों से केदारनाथ पहुंचने वाला शायद यह पहला प्रशासनिक अधिकारी होगा, जिसने इस आपदा के दौरान इन सड़कों को अपने पांवों से नापा है।
    प्रदेश में प्रशासनिक पदों पर महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभाने वाले दलीप जावलकर इस आपदा की घड़ी में क्षेत्र के लोगों के लिए मसीहा बनकर उभरे हैं। उत्तराखण्ड शासन में जहां उन्हें तेज तर्रार व कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी के रूप में जाना जाता है, वहीं उनका सरल स्वभाग, लगनशीलता और र्इमानदारी के साथ उनकी कार्यकुशलता उनके व्यकितत्व पर चार चांद लगा देती है। 11 सितम्बर की पूजा के दौरान जहां उनके सामने पंडित और रावल के बीच चल रहे द्वंद से बीच का रास्ता निकालना था, वहीं कांग्रेस सरकार की पूजा कराने की जिद को भी पूरा करने का दायित्व उन पर ही था। इतना ही नहीं राजनैतिक तौर पर भाजपा के विरोध का भी सामना उनको ही करना था, इस पूजा को लेकर तरह-तरह के विवाद, इसकी तारीख को लेकर नेताओं में बयानबाजी और स्थानीय पुरोहितों और हक-हकूक धारियों के बढ़ते दबाव का सामना भी इन्हीं को करना था। कुल मिलाकर आपदाकाल के तुरंत बाद से लेकर 11 सितम्बर तक की पूजा का श्रेय यदि देना है तो जिलाधिकारी रूद्रप्रयाग दलीप जावलकर को दिया जाना चाहिए। नेताओं को श्रेय देने के चलते कहीं ऐसा न हों कि इस महत्वपूर्ण कार्य के मुख्य नायक को ही हम भूल जाएं