बुधवार, 9 अप्रैल 2014

सतपाल महाराज के बाद कंडारी होंगे भाजपा में शामिल

matwarsinghkandariदेहरादून (डीबीएमएस) : मोदी की आंधी मुझे भी उड़ा ले गई। कार्यकर्ताओं का भारी दबाव था इसलिए राजनाथ सिंह के बुलावे पर दिल्ली आया। भाजपा के छोड़ने का पश्चातताप भी किया। कांग्रेस में गृह युद्ध के हालात है। वहां रहकर मरने से अच्छा है कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने में सहयोग दिया जाए। यह कहना है कांग्रेसी नेता रहे मातबर सिंह कंडारी का जो जल्द ही विधिवत रूप से भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं.तीन साल पहले वो भाजपा छोड़ कांग्रेस मे शामिल हो गए थे जहाँ उनकी दाल नहीं गल पाई थी और न ही उनको वहां कोई तवज्जो ही मिली थी .सतपाल महाराज के बाद कांग्रेस के लिए यह दूसरा बड़ा झटका होगा।
  वह टिहरी उप-चुनाव से पहले भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह के बुलावे पर सोमवार को दिल्ली गए कंडारी ने उनसे मुलाकात की। राजनाथ ने प्रदेश अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत को जल्द ही कंडारी की ज्वाइनिंग की तिथि तय करने को कहा है। कांग्रेस के दिग्गज मातबर सिंह कंडारी आज दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह से मिले। कंडारी ने बताया कि बीती रात लगभग पौने बारह बजे उन्हें दिल्ली आने का संदेश मिला। कंडारी सोमवार को दिल्ली पहुंचे और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह से मुलाकात की। काफी देर चली मुलाकात के बाद राजनाथ सिंह ने प्रदेश अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत को फोन कर कंडारी की ज्वाइनिंग तिथि तय करने को कहा। कंडारी के साथ इस दौरान भाजपा के दो विधायक स्वामी यतीश्वरानंद व संजय गुप्ता भी मौजूद रहे।
 कंडारी की ज्वाइनिंग के बाद कांग्रेस को राजनीतिक तौर पर पौड़ी व टिहरी संसदीय सीट पर नुकसान उठाना पड़ सकता है। सूत्रों की माने तो जल्द ही कंडारी की ज्वाइनिंग की तिथि तय हो जाएगी और इसके बाद कई दूसरों का रास्ता भी खुलेगा। दिल्ली में राजनाथ सिंह से मातबर सिंह कंडारी की मुलाकात के घटनाक्रम से प्रदेश नेतृत्व अभी अनजान बना हुआ है। यह अनजानापन किसी रणनीति का हिस्सा है या फिर कोई और बात यह तो समय ही बताएगा, लेकिन फिलहाल प्रदेश अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत कहा कि देखते है क्या होता है। पहले पार्टी नेताओं से बात कर थाह ली जाएगी। इसके बाद आगे की योजना बनेगी।